संस्था का का परिचय- जनजाति अनुसंधान एवं विकास संस्था की स्थापना दिनांक 20.04.1954 को जिला छिंदवाड़ा मुखयालय में की गई थी, वर्ष 10 अप्रैल 1965 में संस्था का मुखयालय भोपाल श्यामला हिल्स में तैयार किये गये नये कार्यालय में स्थानांतरित किया गया। संस्था का संग्रहालय छिंदवाड़ा के भवन में ही रखा गया जो आज श्री बादल भोई राज्‍य आदिवासी संग्रहालय के नाम से संस्था द्वारा संचालित किया जा रहा है।

      संस्था का मुख्‍य कार्य प्रदेश की जनजातियों का मानव शास्त्रीय शोध, जनजातीय विषयों पर अनुसंधान, विकास कार्यो का मूल्यांकन अध्ययन, प्रदेश की जनजातियों की भाषा एवं नागरिक शिक्षा, जनजातियों के संस्कृति एवं उनके सांस्कृतिक आयामों का संकलन, अभिलेखीकरण, संवर्धन एवं संरक्षण. जनजातियों की विभिन्न कलाओं पर कार्याशालाओं का आयोजन उनका छायांकन व फिल्मांकन तथा उनकी शिक्षा स्वास्थ्य व अन्य विषयों पर सेमीनार. प्रदेश के राजस्‍व/पुलिस एवं अन्‍य विभागीय अधिकारियों का पुनरध्‍ययन प्रशिक्षण व जनप्रतिनिधियों का जनजातियों के लिये संवैधानिक एवं संरक्षणात्‍मक उपायों पर प्रशिक्षण देना आदि है।

अंतिम बार अपडेट किया:07 Oct, 2021